प्रतिष्ठित IIT खड़गपुर को जुलाई 2018 में टाइम्स की 100 शीर्ष उच्च शिक्षा ‘स्वर्णयुग’ विश्वविद्यालयों की सूची शामिल किया गया था। IIT खड़गपुर अपनी इस उपलब्धि के लिए बधाई का पात्र है।

लेकिन आश्चर्य की बात तो ये है कि IIT खड़गपुर सिर्फ ‘स्वर्णयुग’ विश्वविद्यालयों की सूची में ही नहीं बल्कि ‘सवर्णयुग’ विश्वविद्यालयों की सूची में भी शामिल है। जी हां, ‘सवर्णयुग’

इसकी जानकारी आपको ‘टाइम्स’ में नहीं मिलेगी इसलिए हम बता रहे हैं। दरअसल जुलाई 2018 में ही RTI के माध्यम से कुछ आकंड़े सामने आए हैं।

छत्तीसगढ़ के रहने वाले अजय विक्रम अहिरवार ने RTI के माध्यम से IIT खड़गपुर के शिक्षकों की जातिवार सूची मांगी। 23 जुलाई 2018 को RTI की तरफ से जवाब आया। इस जवाब में जो आंकड़ें हैं वही IIT खड़गपुर को ‘सवर्णयुग’ विश्वविद्यालयों की सूची में शामिल करता है।

RTI के माध्यम से प्राप्त जानकारी के मुताबिक IIT खड़गपुर में कुल 279 Professor हैं, 139 Associate Professor हैं और 230 Assistant Professor हैं।

संविधान अनुसूचित जाति (SC) को 15%, अनुसूचित जनजाति (ST) 7.5%, पिछड़ी जातियों (OBC) को 27% आरक्षण देती है। IIT खड़गपुर में शिक्षकों की संख्या इसी रेशियो में होनी चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है।

Professor-

IIT खड़गपुर के 279 Professor में से मात्र 05 SC, 0 ST और 03 OBC वर्ग के हैं। जबकि आरक्षण के हिसाब से 279 प्रोफेसर में से 42 SC, 21 ST, 75 OBC वर्ग के होने चाहिए।

आरक्षण के ही हिसाब से 279 प्रोफेसर में सवर्ण प्रोफेसरों की संख्या 141 होनी चाहिए। लेकिन है 271 यानी कुल प्रोफेसरों के 97% सवर्ण हैं। IIT खड़गपुर में Professor के अलावा Associate Professor और Assistant Professor की हालत भी ऐसी ही है।

Associate Professor-

IIT खड़गपुर के 139 Associate Professor में से मात्र 02 SC, 0 ST और 04 OBC वर्ग के हैं। जबकि आरक्षण के हिसाब से 139 Associate Professor में से 21 SC, 11 ST, 38 OBC वर्ग के होने चाहिए।

आरक्षण के ही हिसाब से 139 Associate Professor में सवर्ण Associate Professor की संख्या 71 होनी चाहिए। लेकिन है 133 यानी कुल Associate Professor के 96% सवर्ण हैं।

Assistant Professor-

IIT खड़गपुर के 230 Assistant Professor में से मात्र 01 SC, 0 ST और 12 OBC वर्ग के हैं। जबकि आरक्षण के हिसाब से 230 Assistant Professor में से 34 SC, 17 ST, 62 OBC वर्ग के होने चाहिए।

आरक्षण के ही हिसाब से 230 Assistant Professor में सवर्ण Assistant Professor की संख्या 116 होनी चाहिए। लेकिन है 217 यानी कुल Associate Professor के 95.5% सवर्ण हैं।

No automatic alt text available.