हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात पर हंगामा खड़ा हो गया है। बीजेपी ने एक समाचारपत्र की रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि राहुल गांधी ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों से बातचीत के दौरान में कांग्रेस पार्टी को एक मुस्लिम पार्टी बताया था।

दरउसल, बुधवार को राहुल ने कई मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात की थी। कांग्रेस ने इसका मक़सद विचारों का आदान-प्रदान बताया था। लेकिन ‘दैनिक जागरण’ समूह के उर्दू अखबार ‘इंक़ेलाब’ ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि राहुल ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों को आश्वस्त किया कि कांग्रेस ‘मुस्लिम पार्टी’ है।

उर्दू दैनिक की इस रिपोरेट पर मशहूर इतिहासकार इरफ़ान हबीब ने सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने इस रिपोर्ट को ग़लत बताते हुए कहा कि मैं उस मीटिंग में मौजूद था, राहुल गांधी ने ऐसी कोई बात नहीं कही।

इरफान हबीब ने ट्वीट कर लिखा, “मुझे यह सुनकर हैरानी हुई कि राहुल गांधी को इस बात का आरोपी बनाया जा रहा है कि उन्होंने मीटिंग में कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी कहा, जहां मैं मौजूद था। ऐसा लगता है कि यह दुर्भावनापूर्ण इरादा है, ऐसा कोई मुद्दा नहीं आया”।

कांग्रेस इस रिपोर्ट को पहले ही ग़लत बता चुकी है। कांग्रेस ने उर्दू दैनिक की ख़बर को खारिज करते हुए कहा कि कांग्रेस भारत के सभी धर्मों, जातियों और वर्गों की पार्टी है।