योगी की पुलिस सुपारी एनकाउंटर कर रही है। इसका खुलासा हुआ है आजतक के स्टिंग में जहां इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम की जांच से सामने आया कि यूपी पुलिस के कुछ सदस्य झूठे मामलों में निर्दोष नागरिकों को फंसा रहे हैं और फिर उन्हें फर्जी मुठभेड़ों में शूट कर रहे हैं। ये सब तरक्की और दूसरों से पैसा लेकर किसी को ठिकाने लगाने के इरादे से किया जा रहा है।

दरअसल इंडिया टुडे ग्रुप के खोजी पत्रकारों ने योगी के एनकाउंटर की पोल खोलकर रख दी है। स्टिंग में देखा जा सकता है कि एक पुलिस अधिकारी ने एक निर्दोष नागरिक की जान की कीमत आठ लाख रुपये लगाई है।

जिसमें सब इंस्पेक्टर सर्वेश कुमार साफ़ कहता नज़र आ रहा है दिक्कत कोई भी हो हल हो जाएगी। पुलिस अधिकारी ने रिपोर्टर से साफ़ साफ़ कहा कि मैं उसे बैंक की लूटपाट में फंसा कर उसे घायल कर जान से मारा जा सकता है।

एक तरफ जहां सीएम योगी लगातार फर्जी एनकाउंटर के आरोपों को ख़ारिज करते है वहीँ दूसरी तरफ राज्य पुलिस निर्दोषों की जान की कीमत 8 लाख रुपये लगाती है। ऐसा नहीं है कि इंडिया टुडे की टीम ने सिर्फ एक ही जगह अपना स्टिंग किया वो प्रदेश के हर शहरों को गए और कई पुलिस वाले पैसे लेकर एनकाउंटर करने को तैयार थे।

इस मामले पर राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के नेता जयंत चौधरी ने सीएम योगी पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ दिन पहले, प्रधान मंत्री तारीफ़ कर रहे थे की योगी राज में अपराधी ख़ुद सरेंडर कर रहे हैं।

देखिए परिणाम जब मुख्यमंत्री ठोकने की बात करते हैं। वर्दी को मैला कर दिया दरिंदो ने। ग्रह मंत्रालय भी योगी संभाल रहे हैं इसलिए थोड़ी भी नैतिकता है तो इस्तीफ़ा देना चाहिए।