मुज्ज़फरपुर रेप कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर कालिक फेकी गई है। ये तब हुआ जब बालिका गृह मामले में पेश होने आये ठाकुर पर कोर्ट परिसर में ही एक महिला ने स्याही फेकी है। यह महिला जन अधिकार पार्टी(लो) की कार्यकर्ता बताई जा रही है।

इस दौरान ठाकुर ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि वो मधु को नहीं जानता है और न ही उनसे उनका कोई रिश्ता है। ठाकुर ने ये भी कहा कि ये सब आरोप मेरे अखबार को बंद करवाने के लिए किया जा रहा है।

दरअसल पटना में मुजफ्फरपुर मामले में जेल में बंद ठाकुर समेत 10 आरोपियों की आज विशेष पॉक्सो कोर्ट में पेशी थी। इस दौरान मीडिया से बात करते हुए ठाकुर ने कहा कि वो कांग्रेस में शामिल होने वाला था और मुज्ज़फरपुर से चुनाव लड़ने वाला था। ठाकुर ने कहा कि मेरा टिकट लगभग फाइनल हो गया है इस वजह से मुझे निशाना बनाया गया मेरे खिलाफ किसी भी बच्ची ने कोई बयान नहीं दिया है।

ठाकुर ने खुलासा करते हुए कहा कि कई अख़बार अपना सर्कुलेशन बढ़ाकर बताते हैं मुझे लाखों के नहीं प्रतिदिन मुश्किल से हज़ार या दो हज़ार रुपये के ही विज्ञापन मिलते थे। नीतीश सरकार में समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति के साथ अपने रिश्तों पर बोलते हुए ठाकुर ने बताया कि मेरा उनसे कोई रिश्ता नहीं हाँ कभी कभी बात ज़रूर होती थी।

गौरतलब हो कि मंजू वर्मा के इस्तीफे मांग विपक्ष कर रहा है। मगर सीएम नीतीश कुमार ने ऐसा कोई एक्शन लेने से साफ़ इंकार कर दिया है वहीँ सीबीआई ने विशेष पॉक्सो कोर्ट में केस की चार्जशीट और केस केस डायरी की ट्रू कॉपी उपलब्ध कराने की अर्ज़ी दी थी जिसे कोर्ट ने मंज़ूर करके पुलिस को सीबीआई को सभी दस्तावेज़ उपलब्ध कराने का आदेश दिया है।

बता दें कि सीबीआई ब्रजेश ठाकुर का सीडीआर खंगाल रही है जिससे नेताओं और अधिकारियों से उसके रिश्तों का पता लगाया जा सके। ब्रजेश ठाकुर की क़रीबी मधु की गिरफ़्तारी के लिए सीबीआई ने कई जगह छापे मारे हैं लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिली है।