बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में कार्रवाई को लेकर आज (गुरुवार) जब पत्रकारों ने समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा से सवाल पूछा तो उनके अंगरक्षकों ने पत्रकारों की पिटाई कर दी। जिसमें कम से कम तीन पत्रकार घायल हो गए।

दरउसल, पटना के अधिवेशन भवन में कन्या उत्थान योजना के उदघाटन के मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, मंजू वर्मा और अन्य अधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम के बाद सीएम भारी सुरक्षा के बीच बिना पत्रकारों से बात किए निकल गए। लेकिन इस दौरान मंजू वर्मा का मीडियाकर्मियों से सामना हो गया।

जिसके बाद मीडियाकर्मियों ने उनसे पूछा कि बालिका गृह में लड़कियों के साथ रेप पर टाट इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज की रिपोर्ट आने के बाद दो महीने तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई? इस पर मंजू वर्मा ने कोई जवाब नहीं दिया।

तभी एक पत्रकार ने दूसरा सवाल पूछा कि आपके पति पर ब्रजेश ठाकुर से सांठगांठ के आरोप लगे हैं, इसे देखते हुए आपसे इस्तीफे की मांग हो रही है, आप इसपर क्या कहेंगी?

पत्रकार द्वारा किए गए इस सवाल पर मंजू वर्मा के अंगरक्षक भड़क गए और वहां मौजूद मीडियाकर्मियों पर टूट पड़े। अंगरक्षकों द्वारा किए गए इस हमले में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के दो पत्रकारों को चोट लगी है जबकि एक कैमरामैन भी घायल है।

वहीं, इससे पहले मंत्री मंजू वर्मा ने अपने पति पर लगाये आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा था कि मेरे पति दोषी साबित हुए तो मंत्री पद से इस्तीफा दे दूंगी। बालिका गृह जाने के मामले पर उन्होंने कहा कि जब मैं मंत्री बनी थी तब एकबार मेरे पति मेरे साथ गए वहां गए थे।