एबीपी न्यूज़ नेटवर्क से मिलिंद खांडेकर के मैनेजिंग एडिटर का पद छोड़ने के बाद अब प्राइम टाइम एंकर एवं वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी ने चैनल से इस्तीफा दे दिया है।

इसके साथ ही चैनल ने अपने एंकर अभिसार शर्मा को भी 15 दिनों के लिए ऑफ़ एयर कर दिया है। माना जा रहा है कि इन पत्रकारों को मोदी सरकार का विरोध करने की सज़ा मिली है!

पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी ने दावा किया है यह सब इसलिए हो रहा है क्योंकि अमित शाह ने पहले ही एबीपी को सबक सिखाने की बात कही थी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पिछले दिनों संसद में कथित तौर पर पत्रकारों से कहा था कि वह एबीपी न्यूज़ को सबक सिखाएंगे। पत्रकार के मुताबिक शाह ने कहा था कि बहुमत हमारी है”।

दरअसल, हाल ही में वाजपेयी के शो ‘मास्टरस्ट्रोक’ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक प्रोग्राम में बोले गए झूठ का ख़ुलासा किया था। मास्टरस्ट्रोक में पिछले महीने कथित तौर पर ये साबित किया गया था कि किस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में एक महिला से ग़लत तरीके से सरकार की झूठी उपलब्धियों की तारीफ़ करवाई गई।

एबीपी न्यूज़ की इस रिपोर्ट कर केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर सहित कई केंद्रीय मंत्रियों ने सख्त नाराज़गी ज़ाहिर की थी। जिसके बाद मास्टरस्ट्रोक के प्रसारण में बाधा की खबरें आने लगी थीं। कई पत्रकारों का मानना था कि ये बाधाएं सरकार द्वारा जानबूझकर उत्पन्न की जा रही हैं।

ग़ौरतलब है कि पुण्य प्रसून वाजपेयीज से पहले चैनल के मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि अभी तक उनके इस्तीफे की वजह सामने नहीं आई है, लेकिन उनके अचानक चैनल से चले जाने के पीछे मोदी सरकार की मंशा बताई जा रही है।

वहीं, चैनल के मशहूर एंकर अभिसार शर्मा को 15 दिनों के लिए छुट्टी पर भेज दिया गया है। बता दें कि अभिसार शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार के सबसे मुखर आलोचकों में से एक रहे हैं। वह अपनी रिपोर्ट और वीडियो ब्लॉग के माध्यम से मोदी सरकार की कमियों को उजागर करते आ रहे हैं।