देश की राजधानी दिल्ली से दिल को झकझोर देने वाली ख़बर सामने आई है। पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में एक ही परिवार की तीन मासूम बच्चियों की भुखमरी से मौत हो गई। मौत की वजह का ख़ुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ है।

मृतकों की पहचान शिखा (8), मानसी (4)और पारुल (2)के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि मंगलवार दिन में मां तीनों बच्चियों को बेहोशी की हालत में लेकर एलबीएस अस्पताल पहुंची थी। वहां डॉक्टरों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया।

जिसके बाद इस मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों बच्चियों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात की पुष्टी की गई है कि तीनों बच्चियों की मौत भुखमरी से हुई है। हालांकि अभी ये पता नहीं चल सका है कि ये तीनों कितने दिन से भूखी थीं।

पुलिस के मुताबिक मूलरूप से पश्चिम बंगाल की रहने वाली शिखा, अपनी तीनों बच्चियों और पति मंगल के साथ मंडावली गांव स्थित इकबाल का गैराज मदरसे वाली गली में रहती थीं। मंगल किराए पर रिक्शा लेकर चलाता था। मंगलवार सुबह वह काम ढूंढने की बात कर घर से निकला था।

इस घटना को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दुख ज़ाहिर करते हुए दिल्ली की आप और केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि अहंकारी सरकारें आरोप-प्रत्यारोप, रैलियों, समारोहों और विदेश यात्राओं में मदमस्त हैं और मासूम बच्चियों ने भूखमरी से दम तोड़ दिया।

उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “आज दिल्ली में मानवता की मौत हो गई। बाप का रिक्शा चोरी, आठ दिन से माँ से रोटी मांग रही थी.. तीन मासूम बच्चियों ने भूख से तड़प तड़प कर दम तोड़ दिया। अहंकारी सरकारें आरोप-प्रत्यारोप, रैलियों, समारोहों और विदेश यात्राओं में मदमस्त है”।

ग़ौरतलब है कि यह घटना जिस जगह हुई है, वह इलाका दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के विधानसभा क्षेत्र में आता है। दिल्ली की केजरीवाल सरकार भले ही लोगों के घर पर राशन पहुंचाने का दावा कर रही हो, लेकिन भूख से हुई इन बच्चियों की मौत ने आप सरकार के दावों पर सवालिया निशान लगा दिया है।