उत्तर प्रदेश के कोतवाली क्षेत्र के नवादा गाँव में रहने वाले एक बीजेपी नेता के दो कुत्ते तडके लापता हो गए। जब इसकी जानकारी पुलिस को दी गई तो पुलिस ने 7 गाँव खंगालने के बाद 3 घंटे में एक जंगल से दोनों को ढूंढ कर निकाला।

जी न्यूज़ की एक खबर के मुताबिक़ पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता रामशंकर कठेरिया का कालू नाम का कुत्ता भी कुछ सालों पहले गायब हुआ था। बीजेपी एमपी की पत्‍नी मृदुला कठेरिया परेशान होकर पुलिस के पास पहुंची और उन्होंने कुत्‍ते के चोरी होने की शिकायत एसपी सिटी को दी। उन्‍होंने कहा है कि अगर पुलिस उत्तर प्रदेश के मंत्री आजम खान की भैंस ढूंढ सकती है, तो हमारा कालू (कुत्‍ता) क्‍यूं नहीं।

ऐसे बातों पर हंसी तो तब आती है, जब नेता की पत्नी ऐसी बातें कहती है। उन्होंने जोड़ते हुए ये भी कहा है कि उत्‍तर प्रदेश पुलिस मेरे कुत्‍ते को ढूंढने के लिए फोर्स लगाए।

पूरे देश में आए दिन कितने युवक युवतियां लापता होते है। कुछ लड़कियों का बलात्कार कर दिया जाता है। उनकी लाश 4 5 दिन बाद संदिग्ध हालत में मिलती है। पर जब एक बीजेपी नेता का कुता गायब हो जाता है। तो पुलिस 3 घंटे में 7 गाँव तक खंगाल देती है। वेसे उन सभी पुलिस कर्मी की फूर्ती की दाट देनी पड़ेगी।

तकरीबन 15 महीने से गायब जेएनयू के छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी का मामला अभी तक नहीं सुल्झा है। जबकि जेएनयू छात्रसंघ और नजीब का परिवार इस मुद्दे पर लगातार प्रदर्शन करता रहा है, पर इतने प्रयासों के बाद भी उसका अभी तक कोई पता नहीं चला पाया। आखिर ये कैसा न्याय है। कि एक कुत्ते को 3 घंटे में तलाश दिया जाता है। और देश का बेटा इतने समय से गायब है इसकी किसी को परवाह नहीं है।