पूरे देश में उत्तर प्रदेश आपराधिक मामले में दूसरे नंबर पर आता है। इसी साल संसद में गृह मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि केरल के बाद सबसे ज्यादा अपराध और दंगे उत्तर प्रदेश में दर्ज किये गए है। वही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बात को नहीं मानते है। उनका कहना है उनकी सरकार के कार्यकाल में एक भी दंगें नहीं हुए है।

एक न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में बोलते हुए सीएम योगी ने यूपी में किसी भी तरह के दंगें नहीं होने से साफ़ इनकार किया। उन्होंने कहा कि कासगंज को दंगा नहीं कहा जा सकता, हमारी सरकार के एक साल के कार्यकाल में एक भी दंगा नहीं हुआ और मैं दावे के साथ कह सकता हूं हमारी सरकार के दौरान प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हो सकता।

वही इसी साल की शुरुआत में दंगों की रिपोर्ट पेश करते हुए केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर ने ‘2017 के आंकड़ों के अनुसार देशभर में 822 दंगे होने की बात संसद में कही थी। जिनमें सबसे ज्यादा 195 दंगे उत्तर प्रदेश में हुए। दंगों के भड़कने की पीछे वजह धार्मिक, जमीन-जायदाद और सोशल मीडिया को बताया गया था।

अब सवाल ये उठता है की अपना एक साल पूरा कर रही योगी सरकार को झूठे दावे करते वक़्त एक बार भी ग्रह मंत्रालय की रिपोर्ट को पढ़ लेना चाहिए जिसमें उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा दंगे होने की बात कही गई है।

इस मामले पर सोशल मीडिया पर लोगों ने सीएम योगी पर कटाक्ष किया। आनंद ने लिखा कि योगी अभी आप के मंत्री ने केंद्र में संसद में रिपोर्ट पेश किए है की साल भर में सब से जादा दंगे यूपी में हुए है । या तो वो झूट बोल रहे है या तो आप ।