कमलेश तिवारी हत्याकांड में यूपी पुलिस ने तत्पर्ता दिखाते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने दावा किया है कि हत्या की मुख्य वजह कमलेश तिवारी का 2015 का भड़काऊ भाषण है। लेकिन कमलेश के हाल के फेसबुक पोस्ट और उनकी माँ के बयान के को देखने के बाद कहानी कुछ और ही नज़र आती है।

कमलेश तिवारी ने हाल ही में किए अपने फेसबुक पोस्ट में ये साफ़ कर दिया था कि अगर उनकी हत्या होती है तो इसके लिए आरएसएस और सत्तारूढ़ बीजेपी ज़िम्मेदार होगी। उन्होंने साफ़ तौर पर कहा था कि संघ और सूबे की योगी सरकार उनकी हत्या करना चाहती है।

कमलेश का बेटा बोला- हमें प्रशासन पर भरोसा नहीं, NIA करे जांच, कहीं निर्दोषों को ना फंसाया जा रहा हो

हत्या से चार दिन पहले कमलेश ने अपनी फेसबुक पोस्ट के अंत में संघ और बीजेपी को ठग बताते हुए लिखा था, “ठग परेशान हो गये यदि मेरी हत्या होती तो संघ भाजपा जिम्मेदार होगा हिंदुओ यदि हम पवित्र मन सच्चाई के साथ हिंदुओ के लिये लड रहा हूँ तो मेरी मौत के बाद इन भाजपा ऒर संघ वालो के षड्यंत्र के खिलाफ जरुर लडना”।

वहीं कमलेश की माँ सूबे की योगी सरकार और बीजेपी पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा है कि योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और बीजेपी ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए उनके बेटे को मरवा दिया। उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी के चलते योगी और बीजेपी की दाल नहीं गल रही थी इसलिए एक बीजेपी नेता के जरिए मेरे बेटे की हत्या करवाई।

कमलेश तिवारी की माँ ने बीजेपी नेता शिव कुमार गुप्ता को सीधे तौर पर हत्यारा बताया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी का वो नेता शिव कुमार गुप्ता है, जो भूमाफिया है। मंदिर में अध्यक्ष पद के विवाद के चलते शिवकुमार ने मेरे बेटे कमलेश की हत्या की है।

कमलेश तिवारी की मां बोलीं- योगी के इशारे पर BJP नेता शिवकुमार गुप्ता ने की मेरे बेटे की हत्या

कमलेश तिवारी की मां का कहना है कि कमलेश के विरोध के बावजूद छल के साथ भूमाफिया शिव कुमार गुप्ता मंदिर का अध्यक्ष बन गया, तब से रंजिश चल रही थी और अब उसने मेरे बेटे की हत्या कर दी है।

कमलेश के पोस्ट और उनकी माँ के इन आरोपों के बाद तस्वीर एकदम साफ़ हो जाती है। पोस्ट और माँ के बयान के मुताबिक, बीजेपी नेता शिव कुमार गुप्ता हत्या के मुख्य आरोपी हैं। इसके बावजूद पुलिस बीजेपी नेता को गिरफ्तार करने के बजाए इस हत्या में सांप्रदायिक एंगल तलाश रही है। पुलिस इस हत्या की वजह कमलेश का 2015 का भड़काऊ बयान बता रही है।