ब्रिटेन में स्वास्थ्य सेवा में कोई गड़बड़ी हो तो इसकी सीधी शिकायत वहां के प्रधानमंत्री से उन्हें खरी-खोटी सुनाकर की जा सकती है। इस तरह शिकायत करने पर भारत की तरह आपको कोई ख़ामियाज़ा भी नहीं भुगतना पड़ेगा, बल्कि ऐसा करने के लिए आपकी तारीफ़ भी हो सकती है।

दरअसल, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन बुधवार को लंदन के अस्पताल में सरकारी योजना ‘नेशनल हेल्थ स्कीम’ का जायज़ा लेने पहुंचे थे, लेकिन जब वह आम लोगों से मुलाकात कर रहे थे, तभी 7 दिन की एक बच्ची के पिता ने उन्हें घेर लिया और अस्पताल की बदइंतज़ामियों को लेकर उनको खरी-खोटी सुनाने लगा।

मरीज़ बेटी के पिता उमर सलेम ने बोरिस जॉनसन से कहा कि आप यहां पर फोटो खिंचवाने आए हैं, लेकिन अस्पताल में स्टाफ की कमी है। जिसके लिए आपकी सरकार कुछ भी नहीं कर रही है और सिर्फ फोटो खिंचवा रहे हैं।

हालांकि, बोरिस जॉनसन को उमर का ये अंदाज़ बिल्कुल भी बुरा नहीं लगा। कुछ देर के बाद उन्होंने एक ट्वीट कर लिखा, “मैं 57 दिनों से प्रधानमंत्री हूं, लोगों से बात करना और उनकी समस्या सुनना मेरा काम है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि वह मेरी बात से सहमत है ये नहीं। मुझे खुशी है कि इस व्यक्ति (उमर सलेम) ने मुझे अपनी दिक्कतें बताईं, ये मेरे शर्म की बात नहीं है क्योंकि यही मेरा काम है”।

इस मामले को भारत के परिप्रेक्ष्य में भी देखा जा रहा है। लोगों का कहना है कि इस तरह अगर भारत में किसी ने प्रधानमंत्री से शिकायत की होती तो उसे जेल में डाल दिया जाता।

पत्रकार विनोद कापड़ी ने इस मामले का विडियो ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा, “जब एक बीमार बच्चे के पिता ने अस्पताल में ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन को घेर लिया और कहा कि National Health Service (स्वास्थ्य सेवाएँ) बर्बाद हो चुकी है। डॉक्टर नहीं हैं, नर्स नहीं है और आप यहाँ मीडिया लेकर फ़ोटो खिंचवाने आए हैं। ये पिता भारत में जेल में होता”।