फोटो साभार- Navjivan India

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा 25 हज़ार होमगार्डों की ड्यूटी ख़त्म किए जाने के फैसले का प्रदेशभर में विरोध किया जा रहा है। मंगलवार को मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) में भी होमगार्डों ने इसका विरोध अनोखे अंदाज़ में किया। यहां होमगार्डों ने हाथों में कटोरा लेकर फैसले के खिलाफ अपना ग़ुस्सा ज़ाहिर किया।

होमगार्ड्स ने ये प्रदर्शन उत्तर प्रदेश होमगार्ड्स अवैतनिक अधिकारी व कर्मचारी एसोसिएशन के बैनर तले ज़िला कलक्ट्रेट के सामने किया। होमगार्डों ने अपनी समस्या को लेकर हाथों में कटोरा लेकर धरना देते हुए मुख्यमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में सभी होमगार्ड्स को ड्यूटी दिए जाने की मांग की गई है।

ज्ञापन में कहा गया कि प्रदेश में अब तक 41 हजार 500 होमगार्डों की ड्यूटी कम कर दी गई है। इससे होमगार्डों के परिवार भूखे मरने की स्थिति में आ गए हैं। पूरे प्रदेश के होमगार्ड (Home Guards) जवानों में आक्रोश है। इन होमगार्ड्स का भविष्य खतरे में है।

अयोध्या में लाखों दीप जलाने वाली सरकार ने 25 हज़ार होमगार्ड्स के घर के दीप बुझा दिएः सपा नेता

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुजफ्फरनगर में होमगार्डों ने ड्यूटी से हटाए जाने के विरोध में हाथों में कटोरा लेकर विरोध प्रदर्शन किया। होमगार्ड्स अवैतनिक अधिकारी व कर्मचारी एसोसिएशन के बैनर तले कलक्ट्रेट में धरना देते हुए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।

बता दें कि योगी सरकार (Yogi Government) के 25 हज़ार होमगार्ड्स को नौकरी से निकाले जाने के फैसले के बाद मुज़फ्फरनगर में 575 होमगार्ड्स इससे प्रभावित हुए हैं। कुल 1200 होमगार्ड्स में लगभग आधे बेरोजगार हो गए हैं। इनके सामने रोज़ी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। जिसके विरोध में इन लोगों ने हाथों में कटोरा लेकर प्रदर्शन किया।

25000 होमगार्ड्स की नौकरी छिन गई मगर मीडिया चुप है, क्योंकि नौकरी नहीं हिंदू खतरे में है : रवीश

इस प्रदर्शन के ज़रिए ये लोग सरकार को बताने चाहते हैं कि इस फैसले के बाद इनके सामने अपना और अपने बच्चों का पेट पालने के लिए भीख मांगने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा है। हालांकि यहां बताते चलें कि बीते कल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने इन होमगार्ड्स को आश्वासन दिया था कि किसी की नौकरी नहीं जाएगी।

बता दें कि मुजफ्फरनगर जैसा प्रदर्शन सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, गाजियाबाद और मेरठ सहित तमाम जनपदों में भी देखने को मिला। इन तमाम ज़िलों में होमगार्ड्स ने विभिन्न तरीके से अपना विरोध दर्ज कराया है।