अपने बेटे को खो चुकी एक माँ सरकार और प्रशासन से इंसाफ़ की गुहार लगा रही है। लेकिन सरकार और उसकी पुलिस उस माँ की गुहार सुनने के बजाए उसे ही परेशान करते नज़र आ रहे हैं। माँ की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ़ कार्रवाई करने के बजाए माँ को नज़रबंद किया जा रहा है।

ये माँ है हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की, जिनकी 4 दिन पहले गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद माँ ने इंसाफ के लिए मुख्यमंत्री से मिलने की गुहार लगाई। उनकी इस मांग पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनसे मिलने के लिए राज़ी हो गए। लेकिन वह पीड़ित माँ से मिलने उसके पास नहीं गए बल्कि उसे जबरन अपने दफ्तर बुला लिया।

कमलेश की मां बोलीं- योगी ने पुलिस भेजकर जबरदस्ती बुलाया, CM के ‘हाव-भाव’ ठीक नहीं लगे

जिसकी शिकायत माँ ने मीडिया से भी की। माँ ने कहा कि मुख्यमंत्री के हाव-भाव हमें ठीक नहीं लगे और न ही हम उनसे मुलाक़ात के बाद संतुष्ट हुए। इसके बाद वह सोमवार को कमलेश तिवारी की अस्थियों को गंगा में विसर्जित करने वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पहुंची। जहां उन्होंने मीडिया से बात करते हुए योगी की पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए।

कमलेश की मां ने कहा, “हमें नजरबंद करके रखा गया है। मेरे घर में इतनी फोर्स है कि हम नजरबंद महसूस कर रहे हैं। जितनी पुलिस हमारे घर पर है उतनी अगर हत्यारों को खोजने में लगाते तो अभी तक हमलावर पकड़े जा सकते थे”।

कमलेश की मां बोलीं- अखिलेश सरकार में सुरक्षित था मेरा बेटा, योगी सरकार में मार दिया गया

इसके साथ ही उन्होंने योगी सरकार से भी कड़ी नाराज़गी जताई और कहा कि अगर हमें इंसाफ नहीं मिला तो हम बड़ा आंदोलन करेंगे। वहीं कमलेश तिवारी के भाई ने भी पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि हत्यारे लखनऊ में ही घूमते रहे, लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि जिस होटल में वे रुके थे इसमें वहां के मैनेजर भी शामिल था, लेकिन अभी तक उसकी गिरफ़्तारी नहीं हुई।