दिल्ली में विधानसभा करीब आ रहे हैं। ऐसे में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) अपने काम को लेकर जनता के बीच जा रही है। आप ने ऐलान भी किया है कि पार्टी केजरीवाल सरकार द्वारा दिल्ली में किए गए विकास कार्यों के मुद्दे पर विधानसभा चुनाव लड़ेगी। इसीलिए आप के मंत्री, विधायक और यहां तक कि खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) दिल्ली सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों को दिल्ली की जनता को बता रहे हैं।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) की दिल्ली के सरकारी स्कूलों का कायापलट करके शिक्षा विभाग को प्राइवेट स्कूलों के समकक्ष ला खड़ा करने में लगे हुए हैं। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में जब ‘हैप्पीनेस कार्यक्रम’ चलाया गया तो जर्मनी जैसे देशों से प्रतिनिधियों ने केजरीवाल सरकार की इस योजना की तारीफ की।

केजरीवाल बनवाएंगे सबसे बड़ा अस्पताल, मूर्ति पर करोड़ों उड़ाने वाले मोदी सीखें क्या होता है विकास

सिसोदिया का मानना है कि शिक्षा से ही समाज और दिल्ली का विकास हो सकता है, इसीलिए केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के शिक्षा बजट को बढ़ाने का काम किया है।

इसी तरह से दिल्ली सरकार की एक और योजना स्वास्थ्य क्षेत्र में चल रही है। सरकार सरकारी अस्पतालों की इलाज की सुविधाओं को दुरुस्त करने में लगी हुई है।

केजरीवाल ने की यूनिवर्सिटी खोलने की घोषणा, लोग बोले- गौशाला खोलने से वोट मिलेंगे यूनिवर्सिटी से नहीं

इस योजना की पॉलिसी के तहत, “अगर सड़क में किसी का एक्सीडेंट हो जाए, तो आप बेझिझक घायल व्यक्ति को किसी भी नजदीकी प्राइवेट और सरकारी अस्पताल में पहुंचा दें। उस व्यक्ति का मुफ्त इलाज दिल्ली सरकार द्वारा किया जाएगा। साथ ही अस्पताल (Hospital) पहुँचाने वाले व्यक्ति को पुलिस परेशान नहीं करेगी।”

आम आदमी पार्टी के दिल्ली चुनाव प्रभारी संजय सिंह (Sanjay Singh) की सभा में डॉ रकनवाज़ नाम के एक व्यक्ति ने केजरीवाल सरकार की स्वास्थ्य सेवाओं की तारीफ करते हुए कहा कि, “जब से अरविन्द केजरीवाल की दिल्ली सरकार ने सरकारी अस्पतालों में सारे इलाज और सारी दवाईयां मुफ्त की हैं, लोगों ने प्राइवेट अस्पताल जाना कम कर दिया है।” बता दें कि दिल्ली के विधानसभा चुनाव अगले वर्ष जनवरी या फरवरी में हो सकते हैं।