दिल्ली और हरियाणा में अब चुनाव शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दे पर लड़े जाएंगे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक दूसरे को अपने यहां के स्कूलों और अस्पतालों के निरीक्षण का चैलेंज दिया है।

हरियाणा की 53वीं वर्षगाठ के मौके पर फतेहाबाद पहुंचे केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत के दौरान सीएम मनोहर लाल को चैलेंज देते हुए कहा कि आप दिल्ली के किसी भी पांच स्कूलों और सरकारी हस्पताल का दौरा कर लें और कमी मिले तो बताएं।

केजरीवाल ने कहा कि इसी तर्ज़ पर वह 12 नवंबर को हरियाणा के 5 स्कूलों और सरकारी अस्पतालों का दौरा करेंगे। इसमें तीन स्कूल-अस्पताल केजरीवाल की पसंद के होंगे, जबकि दो स्कूल-अस्पताल हरियाणा सरकार की पसंद के होंगे।

स्कूल में ‘हिंदू-मुस्लिम’ छात्रों की अलग क्लास, सिसोदिया बोले- अब बच्चों को भी बांट रही है भाजपा

दिलचस्प बात यह है कि हरियाणा के सीएम ने केजरीवाल के इस चैलेंज को स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा कि वह दिल्ली के स्कूलों के साथ ही मोहल्ला क्लीनिक का जाएज़ा भी लेंगे।

हरियाणा और दिल्ली के चुनावों में शिक्षा और स्वास्थ्य को मुद्दा बनाए जाने की दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने तारीफ़ की है।

केजरीवाल बनवाएंगे सबसे बड़ा अस्पताल, मूर्ति पर करोड़ों उड़ाने वाले मोदी सीखें क्या होता है विकास

उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “जिस दिन देश की चुनावी राजनीति शिक्षा-स्वास्थ्य के मुद्दे पर आ जायेगी, और मंदिर-मस्जिद, जाति-धर्म जैसे मुद्दे एकदम किनारे पड़ जाएंगे, वह दिन सच में ‘भारत माता की जय’ का दिन होगा”।

उन्होंने कहा, “मुझे खुशी है कि हरियाणा में आम आदमी पार्टी की यह कोशिश असर दिखा रही है”।