उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की नाम बदलो राजनीति जोरों पर है मगर इससे सरकार की काफी आलोचना हो रही है। यहां तक कि उन्हीं की सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने सीएम योगी पर जमकर हमला बोला है।

राजभर का कहना है कि योगी जब मुग़ल के दिए हुए नामों को बदल रहें है तो क्यों न बीजेपी अपने मुस्लिम प्रवक्ताओं के नाम भी बदल दे।

दरअसल मुग़लसराए, इलाहाबाद और अब फैजाबाद का नाम बदलने के बाद योगी सरकार को बीजेपी के कई नेता और शहरों के नाम बदलने का सुझाव देने लगे हैं। इसपर उनके योगी सरकार में मंत्री और उनके सहयोगी दल के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर ने अपनी सरकार को आड़े हाथों लिया है।

योगी ने बदला इकाना स्टेडियम का नाम, लोग बोले- अखिलेश काम करते हैं योगी नाम बदलते हैं

राजभर ने कहा कि बीजेपी ने मुग़लसराए और फैजाबाद के नाम बदले जबकि उनके पास जो राष्ट्रीय प्रवक्ता है शाहनवाज़ हुसैन और केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी और मंत्री मोहसिन राजा जैसे तीन मुस्लिम चेहरे है क्यों नहीं बीजेपी पहले उनका नाम नहीं बदलती है।

राजभर ने आगे कहा कि ये सब ड्रामा कर रहे है पिछड़े और शोषितों की आवाज़ दबाने के लिए किसी उतना नहीं दिया जितना मुस्लिमों ने दिया है क्या हमें जीटी रोड को फेक देना है ? लाल किला और ताज महल किसने बनाया है।

योगी जी, इन नौजवानों का कसूर सिर्फ इतना है कि, इन्हें ‘पकौड़े’ बेचना गवारा नहीं है : सपा नेता

बता दें कि अभी हाल ही में दिवाली से एक दिन पहले जनता को सौगात देने के नाम पर योगी सरकार ने फैजाबाद का नाम बदल दिया। इससे पहले सीएम योगी ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने का फैसला किया था।

इसके पीछे बीजेपी और योगी सरकार का कहना है कि ये मुगलों द्वारा दिए हुए गुलामी की निशानी है इसलिए वो नाम बदलना चाहते हैं।