साभार- Mint

देश में बेरोज़गारी के मुद्दे पर घिरी सत्तारूढ़ बीजेपी की मुश्किलें एक रिपोर्ट ने और बढ़ा दी हैं। दरअसल, सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी (CMIE) की एक रिपोर्ट से इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि देश में सबसे ज्यादा बेरोजगारी की मार झेल रहे 10 राज्यों में से 6 में बीजेपी की सरकार है।

इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सूरजेवाला ने बीजेपी पर ज़ोरदार हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “भाजपा मतलब, बेरोजगारी की सरकार, युवाओं को धोखा देने की सरकार। भाजपा को वोट देने का मतलब, युवाओं के सपनों का गला घोंट दो”।

CMIE के सितंबर में किए गए सर्वे के मुताबिक, त्रिपुरा में सबसे ज्यादा बेरोजगारी दर है। इसके अलावा इस सर्वे में सामने आया है कि वर्तमान में हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी सबसे ज्यादा है। और इन सभी राज्यों में बीजेपी की सरकार है। इस लिस्ट में देश की राजधानी दिल्ली भी शामिल है।

राजनाथ जी, बेरोजगारी दूर करने और 15 लाख खाते में आने के लिए कितने ‘नींबू’ की जरूरत पड़ेगी?

सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, त्रिपुरा में बेरोजगारी दर 31.2 प्रतिशत है। इसके बाद दिल्ली जहां बेरोजगारी दर 20.4 प्रतिशत है। वहीं हरियाणा में यह दर 20.3 प्रतिशत है। सर्वे में टॉप 10 में शामिल अन्य राज्यों में हिमाचल प्रदेश में 15.6, पंजाब 11.1, झारखंड 10.09, बिहार 10.3, छत्तीसगढ़ 8.6और उत्तर प्रदेश में 8.2 प्रतिशत बेरोज़गारी दर है।

CMIE के इस सर्वे के मुताबिक, वर्तमान में देश में बेरोजगारी का राष्ट्रीय औसत 8.18 प्रतिशत है। भारतीय राज्यों के इस मासिक सर्वे में 43,600 घरों को शामिल किया गया है। आंकड़ों के मुताबिक, त्रिपुरा की बेरोजगारी दर राष्ट्रीय औसत से 3.8 गुना अधिक है, जबकि दिल्ली और हरियाणा की दरें राष्ट्रीय औसत से 2.5 गुना अधिक हैं।

15 दिनों से पाकिस्तान और इमरान से दंगल कर रहा है आज तक, मंदी-बेरोजगारी पर नहीं कर रहा सवाल

सर्वे में दक्षिण भारत की स्थिति काफी बेहतर है। यहां उत्तर भारत के मुकाबले बेरोजगारी दर काफी कम है। सर्वे के मुताबिक, कर्नाटक और तमिलनाडु में बेरोजगारी दर सबसे कम है। कर्नाटक में बेरोजगारी दर 3.3 प्रतिशत है, जबकि तमिनाडु में यह दर और कम 1.8 प्रतिशत है।