अमेरिका के ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी’ में भी पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का बोलबाला रहा। कार्यक्रम में पीएम मोदी के सामने ही नेहरू की जमकर तारीफ की गई और उनके योगदान की याद दिलाई गई।

दरअसल, कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी के बोलने से पहले अमरीकी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ़ रिप्रेजेंटेटिव में बहुमत के नेता (लीडर ऑफ़ मेजोरिटी) और डेमोक्रेट सांसद स्टेनी एच होयर जब मोदी के स्वागत में भाषण दे रहे थे। तब उन्होंने गांधी और नेहरू की धर्मनिरपेक्ष सोच की बात कही। जब वो ये बयान दें रहें थे तब पीएम मोदी उनके ही बगल में खड़े थे।

हाउडी मोदी शो में नेहरु की हुई तारीफ़, अलका बोलीं- देश की पहचान नेहरु-गांधी से है गोडसे-सावकर से नहीं

अमेरिकी सांसद ने अपने भाषण में कहा कि अमरीका की तरह भारत भी अपनी परंपराओं पर गर्व करता है। जिससे वह अपने भविष्य को गांधी की शिक्षा और नेहरू की उस सोच जिसमें भारत को धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र बनाने की बात है, उसका बचाव कर सके, जहां प्रत्येक व्यक्ति और उसके मानवाधिकारों का सम्मान किया जाएगा।

जिस वक्त स्टेनी होयर मंच से नेहरू की शान में कसीदे पढ़ रहे थे थे उस वक़्त नरेंद्र मोदी भी उनके साथ ही खड़े थे। अमेरिकी सांसद के इस बयान की सोशल मीडिया पर जमकर चर्चा हो रही। लोगों का कहना है कि जिस नेहरू को पीएम मोदी भारत की तमाम दिक्कतों का ज़िम्मेदार ठहराते हैं, उस नेहरू की तारीफ उन्हें अमेरिका में अपने ही कार्यक्रम में सुननी पड़ी। जो उनके लिए सहज नहीं था।

पत्रकार साक्षी जोशी ने ट्वीट कर लिखा, “ये क्या हो गया! गांधी तक तो ठीक था, नेहरू की भी तारीफ हो गई! भारत हमेशा से ही लोकप्रिय रहा है सिर्फ पांच साल में नहीं हुआ है। उसका ग्राफ बढ़ा है ये हमारी कामयाबी है जिसका श्रेय सबको जाता है किसी एक व्यक्ति को नहीं”। 

वहीं दिल्ली की विधायक अलका लांबा ने ट्वीट कर लिखा, “पीएम मोदी जी को अपनी बग़ल में खड़ा कर अमरीका ने गांधी और नेहरु को याद किया, उन्हे महान बताया, लोकतंत्र का प्रणेता बताया और मानव अधिकारो का रक्षक बताया। कुछ समझे? कि क्या संदेश दिया? भारत की पहचान आज भी गाँधी नेहरू है, गोडसे सावकर नही। भारत माता की जय”। 

https://twitter.com/LambaAlka/status/1176006157447487488