योगी राज में बिगड़ी कानून व्यवस्था सहित 25 सूत्रीय मांग को लेकर समाजवादी पार्टी पूरे उत्तर प्रदेश में धरना-प्रदर्शन कर रही है। इस धरना-प्रदर्शन में सपा के सभी सांसद, विधायक, एमएलसी, पधाधिकारी सभी युवा संगठन, महिला सभा, कार्यकर्ता हिस्सा ले रहे हैं।

समाजवादी पार्टी द्वारा इतना बड़ा धरना-प्रदर्शन करने की मुख्य वजह है- यूपी में ध्वस्त हो चुकी कानून व्यवस्था, बच्चियों से दुष्कर्म, आए दिन ह’त्या, बिजली कटौती, बिजली की दरों में बढोत्तरी, गन्ना किसानों का बकाया, गौशालाओं में गायों की मौत, अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, भर्तियों में धांधली और भ्रष्टाचार आदि।

वहीं धरना में सपा ईवीएम मशीन की जगह बैलट पेपर से चुनाव करवाना, नकली शराब का धंधा बंद हो, सड़कों को गड्ढा मुक्त करने की योजना में भ्रष्टाचार को खूब जोरदार तरीके से उठा रही है।

जिस कश्मीर को अमित शाह ने बताया पिछड़ा वो कई मामलों में गुजरात से भी है बेहतर

खास बात यह है कि इस प्रदर्शन को उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिले में किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर इस प्रदर्शन की आ रही तस्वीरों में साफ़ देखा जा सकता है कि योगी सरकार प्रदर्शनकारियों को रोकने का प्रयास कर रही है। इस प्रदर्शन में एक और खास बात है कि योगी सरकार बनने के बाद ये अबतक का सबसे बड़ा धरना-प्रदर्शन है।

सपा उन्नाव की रेप पीड़िता को न्याय दिलाने, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं की ह’त्या, फर्जी एनकाउंटर, सोनभद्र नरसंहार में आदिवासियों के नाम जमीन आवंटित की जाए आदि मांगों को लेकर भी धरना दे रही है।