मानहानि शब्द को इतना छिछला बना दिया गया है कि आजकल हर बड़े राजनेता की इज्जत पर बन आती है और उसकी मानहानि हो जाती है। जिसके लिए वो कानून की शरण में जाकर शिकायत करने वाले या आरोप लगाने वाले पर मुकदमा ठोक देता है।

मानहानि इतना सस्ता हथियार हो गया है कि इसका गलत इस्तेमाल होने लगा है। हर गलत काम करने वाला व्यक्ति इनकी शरण ले रहा है। इसकी शरण में जाने वाले ज्यादातर नेता शामिल हैं।

सवाल है! क्या मानहानि सिर्फ नेताओं और अमीर लोगों की होती है? भाजपा नेता और मोदी सरकार में विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर अबतक 16 महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। एमजे अकबर पर आरोपी लगाने वाली महिलाओं की गिनती लगातार बढ़ रही है।

MeToo अभियान के तहत आए इस मामले में पत्रकार प्रिया रमानी ने सबसे पहली अकबर पर आरोप लगाया था। एमजे अकबर ने प्रिया रमानी और अन्य महिलाओं को झूठा साबित करते हुए रमानी पर मानहानि का मुकदमा दायर किया है।

अगर देश की महिलाएं चाहें तो सत्ता पलट सकती हैं, तो फिर ये ‘अकबर’ क्या चीज़ है : पुण्य प्रसून

इसपर राजनीतिक विश्लेषक संजय यादव ने सोशल मीडिया पर एमजे अकबर की ओर इशारा करते हुए तंज कसा है। संजय ने सोशल मीडिया साईट फेसबुक पर लिखा है-

“मानहानि हमेशा अमीर की ही क्यों होती है? क्या गरीब का कोई मान नहीं होता या उनके कर्म ही इतने श्रेष्ठ होते हैं कि कोई उनकी प्रतिष्ठा की क्षति ही नहीं करता? इज्ज़त पर अमीरों का कॉपीराइट है क्या?

मानहानि की बात करें तो मोदी सरकार रोज़ आम लोगों की इज्जत से खेल रही है। मोदी सरकार में निरंतर मरते किसानों को जब कर्ज़माफ़ी के नाम पर जब एक पैसा से लेकर 9 रुपए दिए जाते हैं तब अन्नदाताओं की मानहानि नहीं होती है?

अपनी मांगों को लेकर जब किसान दिल्ली आते हैं तब मोदी की पुलिस उनपर लाठी भांजती है और आंसू गैस के गोले बरसाती है तब गरीब किसानों की मानहानि नहीं होती है?

सत्ता की चापलूस ‘गोदी मीडिया’ क्या अकबर का शिकार बनी महिला पत्रकारों को न्याय दिला पाएगी?

जब यूपी की सड़कों पर महिला शिक्षा मित्रों को दौड़ा कर पीता जाता है तब भी योगी सरकार महिलाओं की मानहानि की नहीं सोचती! बिहार में जब नीतीश कुमार जनता के कीमती वोट को धोखा देकर भाजपा से हाथ मिला लेते हैं तब बिहार की जनता की मानहानि नहीं होती?

गुजरात से बिहार-यूपी के लोगों को मारकर भगाया जा रहा है तब भी गरीब लोगों की मानहानि हो रही है। काले धन को खत्म करने के लिए जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रातों-रात जब नोटबंदी की तो भ्रष्टाचार खत्म करने के बड़े-बड़े दावे किए गए। लेकिन जब एटीएम की लइनों में 150 लोगों की जान चली गई और ऊपर से भ्रष्टाचार, आतंकवाद, नक्सलवाद जारी रहा तब आम जनता ने अपने आपको ठगा महसूस किया।

जिसने बलात्कारी ‘कुलदीप सेंगर’ को पार्टी से नहीं निकाला वो भला ‘एमजे अकबर’ को क्या निकलेगा

यहाँ भी सरकार ने लोगों की मानहानि की थी। ऐसे ही तमाम किस्से मिल जाएंगे जहाँ सरकार, मंत्री और नेता गरीब जनता को बेइज्जत करते हैं। जनता के खिलाफ बयान देते हैं और मामला बढ़ने पर माफ़ी मांग लेते हैं।

लेकिन जब एक जिम्मेदार पद पर बैठे एमजे अकबर पर 16 महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है तो ऐसे में एमजे अकबर की कौन सी मानहानि हो रही है! एमजे अकबर आरोपी हैं।