उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) से पुलिस की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। यहां पुलिसकर्मियों ने एक कारोबारी को बंधक बनाकर उससे पैसों की मांग की है। इस मामले पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के एमएलसी सुनील सिंह यादव ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।

उन्होंने सूबे की योगी सरकार (Yogi Government) को घेरते हुए ट्वीट कर लिखा, “जिस पुलिस पर सुरक्षा की जिम्मेदारी है वह लुटेरी बनी हुई है। झांसी में निर्दोष पुष्पेंद्र की हत्या कर दी। राजधानी में सरकार की नाक के नीचे व्यापारी को दिनदहाड़े अगवा कर रंगदारी मांग रहे हैं और कोई एक्शन नहीं! यूपी पुलिस सरकार प्रायोजित सुपारी किलर और लुटेरों में तब्दील हो चुकी है”।

पुलिसकर्मियों द्वारा बंधक बनाए गए भूतनाथ मार्केट के कपड़ा कारोबारी जसवीर सिंह ने ख़ुद इस बात की शिकायत मंगलवार को एसएसपी से की। उन्होंने एसएसपी से बताया कि वह सोमवार शाम सात बजे अपनी कार से कुछ परदे गट्ठर में लेकर दुकान जा रहे थे।

इस दौरान लोहिया पार्क चौराहे पर सफेद रंग की एसयूवी ओवरटेक कर उनकी कार के सामने आ गई। जिसमें से दो पुलिसकर्मियों उतरे। एक इंस्पेक्टर था और दूसरा दरोगा। वहीं, एसयूवी एक सिपाही चला रहा था।

योगीराज में अब पुलिस कर रही गुंडों का काम, कारोबारी को बंधक बनाकर मांगे 50 हज़ार रुपए

जसवीर का आरोप है कि दोनों पुलिसकर्मियों ने उसकी कार रोकी और उसमें बैठ गए। इसके बाद कार की चाबी निकालकर अपने पास रख ली। एक पुलिसवाले ने उसका मोबाइल छीन लिया और गालियां देने लगे। उन्होंने कार में रखे गट्ठर के बारे में पूछताछ शुरू की।

इस पर जसवीर ने कहा कि इसमें परदे हैं, जिसकी बिल्टी भी है। उसे छुड़ाकर ला रहे हैं। इस पर पुलिसवालों ने आपत्ति जताई कि कार माल वाहक नहीं है। इसमें कैसे सामान लेकर आ रहे हो। जसवीर ने कहा कि ज्यादा माल नहीं था, इसलिए उसे कार में ही लेकर दुकान जा रहा था।

कारोबारी का आरोप है कि आधे घंटे तक लोहिया चौराहे पर पुलिसवालों ने उसे कार में बंधक बनाए रखा। इसके बाद दोनों धमकी देने लगे कि कार सीज करेंगे। इस पर जसवीर ने थाने चलने को कहा तो वे गालियां देने लगे और हाथापाई शुरू कर दी।

झांसी : एक और फेक एनकाउंटर, वसूली नहीं देने पर योगी की पुलिस ने ली पुष्पेंद्र यादव की जान!

जसवीर ने बताया कि इसके बाद पुलिसकर्मी उसे लोहिया चौराहे से 1090 वीमेन पावर लाइन चौराहे ले गए। इस दौरान कार चला रहे सिपाही ने उसे पैसे देकर मामला खत्म करने की सलाह दी। कारोबारी ने बताया कि सिपाही ने उससे कहा कि साहब, गाड़ी सीज करेंगे तो 50 हजार रुपये देने पड़ेंगे। कुछ ले-देकर समझ लो। नहीं तो बहुत बुरे फंसोगे।

जसवीर ने बताया कि लोहिया चौराहे पर टीआई भी थे, लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की। दो घंटे तक बंधक बनाए रखने के बाद भी पुलिसकर्मी छोड़ने को तैयार नहीं हुए तो उसने गाड़ी का चालान करने की फरियाद की। इसपर पुलिसकर्मी ने कहा कि ऐसा चालान करूंगा कि गाड़ी थाने में सड़ जाएगी। इसके बाद रात करीब 9 बजे कार का ई-चालान कर दिया गया।

जसवीर की शिकायत सुनने के बाद एसएसपी कलानिधि नैथानी ने एएसपी ट्रैफिक पुर्णेंदु सिंह को आरोपी पुलिसकर्मियों को चिह्नित कर पेश करने का निर्देश दिया। साथ ही उनके खिलाफ जांच का आदेश दिया।