कमलेश तिवारी हत्याकांड का तार भले ही यूपी पुलिस उनके 2015 के भड़काऊ बयान से जोड़ रही हो, लेकिन कमलेश की माँ ने सीधे तौर पर बीजेपी नेता शिवकुमार गुप्ता को हत्या का मुख्य आरोपी बता दिया है। लेकिन इसके बावजूद पुलिस ने अभी तक शिवकुमार गुप्ता के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। जिसको लेकर अब सवाल उठ रहे हैं।

सेशल मीडिया पर लोग पूछ रहे हैं कि पीड़ित माँ के आरोपों के बावजूद आख़िर शिवकुमार गुप्ता के खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई? क्या योगी की पुलिस हर बार की तरह इस बार भी बीजेपी नेता को बचाने में जुटी है? दरअसल, इससे पहले भी शिवकुमार गुप्ता के खिलाफ कमलेश तिवारी कई गंभीर आरोप लगा चुके हैं। लेकिन उनके इन आरोपों के बावजूद बीजेपी नेता के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

हत्या से 4 दिन पहले कमलेश ने कहा था- अगर मेरी हत्या होती है तो इसके ज़िम्मेदार BJP और संघ होंगे

इससे पहले 28 सितंबर को कमलेश तिवारी ने यूपी पुलिस पर सवाल खड़े करते हुए ट्विटर के ज़रिए कहा था, “निर्दोष को गोली से उडाने वाली पुलिस आजतक भूमाफिया भाजपा नेता शिवकुमार गुप्ता को आखिर क्यों गिरफ्तार नहीं किया? जिसके ऊपर लखनऊ सीतापुर मे 45 केस हैं अधिकतर फर्जी वाडा कर जमीन हडपने के दर्ज जल्दी एक और जमीन हडपने का केस होगा”। 

बता दें कि कमलेश तिवारी की माँ ने हत्या के लिए सीधे तौर पर बीजेपी नेता शिवकुमार गुप्ता को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि मंदिर में अध्यक्ष पद के विवाद के चलते शिवकुमार ने मेरे बेटे कमलेश की हत्या की है।

कमलेश की मां का कहना है कि कमलेश के विरोध के बावजूद छल के साथ भूमाफिया शिव कुमार गुप्ता मंदिर का अध्यक्ष बन गया, तब से रंजिश चल रही थी और अब उसने मेरे बेटे की हत्या कर दी है। लेकिन कमलेश की माँ के इन आरोपों के बावजूद शिवकुमार पुलिस के शिकंजे से दूर हैं। जिसके चलते सूबे की योगी सरकार को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।