‘अच्छे दिन’ का वादा कर देश के प्रधानमंत्री बने नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ही लोगों के अच्छे दिन लाने में नाकाम रहे हैं। यहां आर्थिक तंगी से बेहाल एक शख़्स ने परिवार सहित मौत को गले लगा लिया।

मामला हुकुलगंज इलाके का है। जहां बुधवार को किशन गुप्ता नाम के एक शख्स ने अपनी पत्नी और 2 मासूम बच्चों समेत फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। किशन के परिजनों के मुताबिक, दोपहर करीब 12 बजे किशन का छोटा भाई प्रकाश उसे बुलाने के लिए उसके कमरे में गया। कमरे में जाते ही वह चिल्लाता हुआ बाहर आ गया। इसके बाद जब सब लोग कमरे में पहुंचे तो देखा कि कमरे में किशन (32) और उसकी पत्नी नीलम (28) फांसी के फंदे पर लटके हुए थे, जबकि किशन के दो बच्चे शिखा (5) और उज्जवल (6) बैड पर मृत पड़े थे।

बताया जा रहा है कि किशन शहर में मोमोज़ की दुकान चलाता था। लेकिन काफी समय से उसकी दुकान ठीक नहीं चल रही थी। जिसके चलते उसकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो गई थी। इससे परेशान होकर किशन ने पहले अपने दोनों बच्चों को ज़हर दिया और बाद में उसने अपनी गर्भवती पत्नी के साथ फांसी लगा ली।

पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। जिसमें किशन ने पत्नी-बच्चों समेत आत्महत्या की वजह लिखी है। पुलिस ने फिलहाल शवों को कब्ज़े में लेकर मामले की जांच शुरु कर दी है। पुलिस इस मामले की जांच अन्य पहलुओं से जोड़कर भी कर रही है।

किशन के पिता और भाई का कहना है कि किशन आर्थिक तंगी से परेशान चल रहा था। उसने अपनी बहन की शादी में काफी कर्ज़ लिया था, जिसे वह चुका नहीं पा रहा था। इन्हीं सब बातों को लेकर वह काफी दिनों से परेशान चल रहा था।