हरियाणा विधानसभा चुनाव में अब ऐसा उम्मीदवार उतारा जा रहा है जिसने ह त्या करने की कोशिश की थी। नवीन दलाल नाम के शख्स को शिवसेना ने बहादुरगढ़ से टिकट दिया है, ये वही शख्स है जिसने जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद पर जानलेवा हमला किया था। अब उसे टिकट देते हुए शिवसेना ने कहा है कि खालिद पर हुआ हमला नवीन का देशप्रेम दिखाने का तरीका था।

दरअसल साल 2018 में दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में उमर खालिद शिरकत करने पहुंचे हुए थे। जहां नवीन ने उसपर गोली चला दी। उमर तो बंदूक जाम होने के कारण बाल बाल बच गए, मगर अब उन्हीं पर गोली चलाने वाले को विधायकी का टिकट दिया गया है। जिसकी जानकारी दलाल ने खुद चुनावी हलफनामे में भी दी है।

जो मीडिया कश्मीर का हाल लेने नहीं गया वो BSNL-MTNL के 1.75 लाख लोगों पर आई विपदा क्यों बोलेगा?

वहीं इस मामले पर शिवसेना के प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि नवीन हमेशा ही गोरक्षा के मुद्दे उठाते रहें है और देशविरोधी नारे लगाते है उनके खिलाफ आवाज उठाता है। मतलब अब चुनावों ने ये मतलब नहीं रखता कि कौन क्या करना चाहता है बल्कि मतलब ये रखता है कि कानून से ना डरने वाले ही अब कानून बनने की तरफ बढ़ाये जा रहें है।

दलाल पर तीन अपराधिक मामले दर्ज है जिसमें खालिद पर हमले के संबंध में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की एफआईआर भी शामिल है। दो अन्य मामले 2014 के हैं। बहादुरगढ़ में एक एफआईआर आईपीसी (दंगा) की धारा 147/149 के तहत और दूसरी दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में दर्ज है।

गौरतलब हो कि उमर खालिद पर हमला करने की बात दलाल खुद ही कुबूल करते हुए कहा था कि ये हमला देश को स्वतंत्रता दिवस का तोहफा था। इसके बाद दलाल और शाहपुर वहां से फरार हो गए थे। इसके बाद एक वीडियो जारी कर कहा था कि वो हमला  नवीन दलाल फिलहाल जमानत पर बाहर हैं और उनका केस कोर्ट में चल रहा है।

योगी ने की कन्या पूजा, पत्रकार बोलीं- एक दिन ‘बेटी’ की पूजा बाकि दिन ‘चिन्मयानंद’ की रक्षा

शिवसेना के हरियाणा (दक्षिण) प्रमुख विक्रम यादव कहते है कि उसका खालिद के साथ व्यक्तिगत मुद्दा नहीं था। वह परेशान था कि इन लोगों ने राजधानी में एक विश्वविद्यालय में भारत विरोधी नारे लगाए थे। वह इस बात से भी नाराज थे कि उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसलिए नवीन के नजरिए से यह उनकी देशभक्ति दिखाने का एक तरीका था।

दलाल को टिकट मिलना इसलिए बड़ी बात नहीं है क्योंकि राजनीति में ऐसा होता रहता है। अगर ऐसा नहीं होता तो अपराधिक छवि रखने वाले ज़्यादातर विधायक और सांसद आज नेता ना बनते। मगर गोडसे की पूजा करने के दौर में अगर एक छात्र पर हमला करने वाले को टिकट दे दिया जाता है तो इसमें हैरान नहीं होना चाहिए।