सहारनपुर की गंगोह विधानसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी प्रत्याशी किरत सिंह को 5362 वोटों से विजयी घोषित कर दिया गया है। यहां उनका मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी नोमान मसूद से था। सुबह से सामने आ रहे रुझानों में किरत सिंह कांग्रेस प्रत्याशी से पीछे चल रहे थे। लेकिन आखरी राउंड की मतगणना में उन्हें विजयी घोषित कर दिया गया।

कांग्रेस प्रत्याशी नोमान मसूद ने आरोप लगाया है कि उन्हें आखरी राउंड की मतगणना के दौरान काउंटिंग सेंटर से निकाल से निकाल दिया गया था। इस संबंध में उन्होंने ज़िलाधिकारी से शिकायत भी की थी। लेकिन उनकी शिकायत को नहीं सुना गया।

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गाँधी ने इस मामले को लेकर अपनी नाराज़गी जताई है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “भाजपा इतने अहंकार में है कि गंगोह में हमारे जीतते हुए प्रत्याशी को काउंटिंग सेंटर से निकालकर उनका मंत्री जनता का निर्णय बदलने के प्रयास में है। DM को पाँच-पाँच बार फोन पर लीड कम करवाने के आदेश आ रहे थे। यह लोकतंत्र का सरासर अपमान है”।

उन्होंने लिखा, “उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी इसके ख़िलाफ सख़्ती से लड़ेगी। निर्वाचन आयोग इस मामले की निष्पक्षता से जाँच कराए”। 

वहीं समाजवादी पार्टी ने भी इस मामले को लेकर प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए। सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष संतर पाल ने कहा प्रशासन ने जबरदस्ती भाजपा को जिताया। जिलाधिकारी ने सभी एजेंटों को बंधक बनाया।

हालांकि जिलाधिकारी आलोक कुमार पांडेय ने इन आरोपों को निराधार बताया है। उन्होंने कहा कि प्रेक्षक की मौजूदगी और सभी एजेंट की मौजूदगी रहे। कुछ लोग मोबाइल का प्रयोग कर रहे थे। उन्हें ज़रूर निकाला गया।

बता दें कि सुबह से इस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार नोमान मसूद आगे चल रहे थे। वह दूसरे राउंड से लेकर 27वें राउंड तक सबसे आगे थे। लेकिन जैसे ही उन्हें काउंटिंग सेंटर से बाहर किया गया, किरत सिंह उनसे आगे हो गए। जिसके बाद कांग्रेस उम्मीदवार को हार का मुंह देखना पड़ा।