केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बाद अब केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंदी को लेकर बेतुका बयान दे डाला है। उन्होंने मंदी की बात को खारिज करने के लिए फिल्मों की कमाई का सहारा लिया है।

मुंबई में शनिवार को पत्रकारों से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तीन-तीन फिल्में करोड़ों का कारोबार कर रही हैं, तो फिर देश में मंदी कहां है। उन्होंने कहा कि 2 अक्टूबर 3 फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की।

महिंद्रा-मारुति के बाद हीरो साइकिल पर मंदी की मार, एमडी बोले- 55 साल में इतने बुरे हालात नहीं देखे

इसके अलावा रविशंकर प्रसाद ने बेरोजगारी पर NSSO की उस रिपोर्ट को भी गलत बताया जिसमें कहा गया है कि बेरोजगारी की दर 45 सालों में सर्वाधिक है। उन्होंने कहा कि वह रिपोर्ट (बेरोजगारी पर NSSO की रिपोर्ट) झूठी है। मैंने आपको 10 प्रासंगिक डेटा दिए हैं, रिपोर्ट में कोई मौजूद नहीं है। हमने कभी नहीं कहा कि हम सभी को सरकारी नौकरी देंगे। कुछ लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से गुमराह करने की कोशिश की।

गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री का ये बयान ऐसे समय में आया है जब चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में विकास दर छह साल के निचले स्तर 5 फीसदी पर पहुंच गई है। इसके अलावा रिजर्व बैंक सहित दुनिया की कई बड़ी रेटिंग एजेंसियों ने भी भारत के लिए विकास दर के अनुमान में कटौती की है।

खुद प्लास्टिक की थैली में कचरा उठाते दिखे PM मोदी, लोगों ने पूछा- कितना फाइन हुआ ?

इससे पहले केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी ऑटो सेक्टर में मंदी को लेकर अजीबो-गरीब बयान दिया था। उन्होंने ऑटो सेक्टर में मंदी के लिए कैब सर्विस देने वाली कंपनियां ओला और उबर को ज़िम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि युवा ओला-उबर का उपयोग बढ़ा रहे हैं और कार खरीदने के लिए किस्त भरने में रुचि नहीं ले रहे हैं। जिसके चलते ऑटो सेक्टर में सुस्ती आई है।