उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कानून व्यवस्था दम तोड़ती जा रही है। यहां पुलिस वाले तक सुरक्षित नहीं हैं तो, आम नागरिक कितने सुरक्षित हैं इसकी बात करना ही बेईनामी है। आए दिन बेकसूर आम नागरिक मारे जा रहे हैं। ऐसे में यूपी में ‘जंगलराज’ कायम है ये कहना ज्यादा उचित है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ग्रामीणों ने पुलिस की जीप पर पथराव करके दरोगा और सिपाही को बंधक बनाकर पेड़ से बांध दिया। बंधक बनाकर ग्रामीणों ने दरोगा और सिपाही की जमकर पिटाई कर दी। इस मामले की वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। घटना वाराणसी के जंसा थाना क्षेत्र के हरसोस गांव का है।

दरअसल, जौनपुर क्राइम ब्रांच पुलिस सोमवार देर रात एक चोरी के मामले में हरसोस गांव में दो लोगों को पकड़ने गई थी। तभी लोगों ने पुलिस पर हमला कर एक बदमाश को छुड़ाकर पुलिस को बंधक बना लिया।

फिर क्या था लोगों ने पुलिस वालों को पेड़ से बांध दिया और उनकी पिस्टल छिन ली और जमकर पिटाई करने लगे। पुलिस वालों की वर्दी तक फाड़ दी गई। इस हमले में रोहनिया एसओ समेत 5 पुलिसवाले घायल हो गए। बाद में घायल पुलिसवालों को अस्पताल में भारती करवाया गया।

ग्रामीणों द्वारा पुलिस पर हमला होने के बाद दस थानों की पुलिस के साथ पीएसी की टीम गांव में तैनात कर दी गई है। साथ ही पुलिस की पिटाई करने वाले लोगों को पकड़ लिया गया है।

लेकिन ये सोचने वाली बात है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूरी भाजपा यूपी में रामराज्य की बात करके उसका मीडिया अखबारों में प्रचार कर रहे हैं। इस रामराज्य में पुलिस वाले पिट रहे हैं!