उत्तर प्रदेश के उन्नाव से BJP विधायक कुलदीप सेंगर पर रे’प का आरोप लगाने वाली पीड़िता अब जिंदगी और मौत से जंग लड़ रही है। रविवार को एक उलटी दिशा से आए एक ट्रक ने उसकी कार को टक्कर मार दी जिसमें पीड़िता अपने वकील, मां और चाची के साथ जा रही थी।

हादसे में पीड़िता की मां और चाची की मौत हो गई। जबकि पीड़िता की हालत बेहद नाजुक है। उसे इलाज के लिए लखनऊ ट्रामा सेंटर भेजा गया है। पीड़िता के वकील की भी हालत नाजुक बनी हुई है।

पीड़िता की बहन ने मीडिया से बातचीत करते हुए हादसे के लिए विधायक कुलदीप सेंगर को जिम्मेदार ठहराया है। पुलिस इस मामले में हत्या की साजिश और हादसा, दोनों पहलुओं से जांच कर रही है। वहीं विपक्षी नेताओं ने पीड़िता की मदद के लिए भी इच्छा ज़ाहिर की बीती रात समाजवादी पार्टी से लेकर कांग्रेस के नेता पीड़िता को देखने को पहुंचे।

रे’प की शिकायत की तो ट्रक चढ़ा दी गई, सरकार के ख़िलाफ़ बोलने वालों पर क्या टैंक चढ़ा दिया जायेगा 

पीड़िता को देखने पहुंची दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने सीएम योगी से इस केस को दिल्ली ट्रान्सफर करने की गुहार लगाई है। स्वाति ने सोशल मीडिया पर लिखा- योगी आदित्यनाथ सरकार से अभी तक परिवार से मिलने कोई न आया।

डीजीपी कह रहे है कि दुर्घटना थी। योगी आदित्यनाथ जी अस्पताल आओ, कुलदीप सेंगर की विधायकी छीनो। सुप्रीम कोर्ट को केस दिल्ली ट्रान्स्फ़र कर 15 दिन में सेंगर को फाँसी दिलानी चाहिए। आज वो बच गया तो देश भर की निर्भया हताश हो जाएँगी।

गौरतलब हो कि उन्नाव गैंगरे’प पीड़िता ने आरोप लगाया था कि बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सेंगर ने उसके साथ 4 जून, 2017 को अपने आवास पर दुष्कर्म किया था। जहां वो अपने एक रिश्तेदार के साथ नौकरी मांगने के लिए गई थी।

बता दें कि बीजेपी विधायक होने के चलते सेंगर को गिरफ्तार करने में देरी लगी थी। सेंगर के खिलाफ उन्नाव के माखी थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 363, 366, 376, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था।

Your Donation
Details