कमलेश तिवारी हत्याकांड को सांप्रदायिक रंग देने में जुटी गोदी मीडिया को कमलेश की माँ ने ज़ोरदार लताड़ लगाई है। उन्होंने एबीपी न्यूज़ के एंकर से कहा कि आप हिंदू-मुस्लिम करना बंद करें और हिम्मत है तो सरकार से सवाल करें, जो इस हत्या के लिए ज़िम्मेदार है।

दरअसल, कमलेश की माँ साफ़ तौर पर बीजेपी और योगी सरकार को कमलेश की हत्या का ज़िम्मेदार बता चुकी हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि योगी आदित्यनाथ और बीजेपी ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए उनके बेटे को मरवा दिया। उनके इन आरोपों के बाद बीजेपी और योगी सरकार पर सवाल उठ रहे हैं।

सरकार को इन्हीं सवालों से बचाने के लिए गोदी मीडिया भी मैदान में उतर आया है। मीडिया सरकार से सवाल करने के बजाए कमलेश की माँ से ये पूछ रहा है कि उन्होंने किस आधार पर योगी सरकार पर इतने गंभीर आरोप लगाए। हमेशा की तरह आरोपी के बजाए पीड़ित को कटघरे में खड़ा कर देने वाले मीडिया को इस बार कमलेश की माँ को कटघरे में खड़ा करना महंगा पड़ गया।

हत्या से 4 दिन पहले कमलेश ने कहा था- अगर मेरी हत्या होती है तो इसके ज़िम्मेदार BJP और संघ होंगे

एबीपी के एंकर सुमित अवस्थी ने जैसे ही ये सवाल कमलेश की माँ से पूछा कि उन्होंने किस आधार पर योगी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए जबकि वह ख़ुद हिंदुत्ववादी छवि के नेता हैं। इसपर उन्होंने कहा, “आप सरकार से सवाल नहीं कर सकते, इसलिए मुझसे सवाल कर रहे हैं। आप सरकार से सवाल करेंगे तो आपका चैनल बंद हो जाएगा”।

इसके बाद सुमित अवस्थी ने कमलेश और उनके परिवार पर हिंदू-मुस्लिम कर लोगों को भड़काने का आरोप लगाया। जिसपर कमलेश की माँ ने कहा, “हमने नहीं, आपने हिंदू-मुस्लिम शब्द को उठाया। आप किसको गुमराह कर रहे हो। हमने तो हिंदू-मुस्लिम की बात नहीं की और आप कह रहे हो कि हम हिंदू-मुस्लिम करके दंगा भड़काने चाहते हैं। किसको बेवकूफ बना रहे हो”।

कमलेश तिवारी की मां बोलीं- योगी के इशारे पर BJP नेता शिवकुमार गुप्ता ने की मेरे बेटे की हत्या

ग़ौरतलब है कि कमलेश तिवारी हत्याकांड में मीडिया की रिपोर्टिंग अबतक बेहद पक्षपातपूर्ण रही है। मीडिया कमलेश तिवारी के परिजनों के बयान के आधार पर आरोपी बीजेपी नेता शिवकुमार गुप्ता को कटघरे में खड़ा करने के बजाए, इस हत्या को सांप्रदायिक रंग देने के लिए इसका कनेक्शन आतंकी संगठन आईएसआईएस से जोड़ने में लगा है।

मीडिया पीड़ित परिवार पर पुलिस के वर्जन को तरजीह देते हुए हत्या की वजह कमलेश का 2015 का भड़काऊ बयान बता रहा है। जबकि पीड़ित परिजनों का साफ कहना है कि कमलेश की हत्या ज़मीनी विवाद के चलते की गई, जो बीजेपी नेता शिवकुमार गुप्ता से था।

कमलेश के भतीजे का तो यहां तक कहना है कि शिवकुमार गुप्ता ने कमलेश को 10 दिन पहले जान से मारने की धमकी तक दी थी। वहीं हत्या से चार दिन पहले ख़ुद कमलेश ने कहा था कि अगर उनकी हत्या होती है तो इसके ज़िम्मेदार बीजेपी और योगी सरकार होगी। लेकिन इन सब तथ्यों के बावजूद मीडिया सिर्फ पुलिस के वर्जन को दिखा रहा है। वह पुलिस जो यूपी सरकार की है और सरकार ख़ुद इस मामले में आरोपी है।