योगी की पुलिस का कहर सहायक शिक्षक भर्ती अभ्यर्थियों पर लगातार टूट रहा है। अब लखनऊ में विधानसभा का घेराव करने पहुंचे 68500 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थियों पर पुलिस ने बेरहमी से लाठियां बरसाईं। इसमें कई अभ्यर्थी बुरी तरह से घायल हुए हैं।

दरअसल, प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थी बीटीसी की इस शिक्षक भर्ती में मेरिट को घटाकर 30 से 33 प्रतिशत करने की मांग कर रहे हैं, जो कि 40 से 45 प्रतिशत रखी गई है। अपनी इसी मांग को लेकर शुक्रवार को बड़ी तादाद में अभ्यर्थियों ने विधानसभा का घेराव किया।

घेराव के बाद अभ्यर्थी राज्य की योगी सरकार के खिलाफ़ नारेबाज़ी करने लगे। जिसपर योगी की पुलिस भड़क गई और अभ्यर्थियों को खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज शुरु कर दिया।

इस दौरान पुलिस ने कई अभ्यर्थियों को घसीट-घसीट कर पीटा। पुलिस के इस लाठीचार्ज की कई तस्वीरें भी सामने आई हैं। जिसमें अभ्यर्थियों पर पुलिस की बर्बरता को साफ़ तौर पर देखा जा सकता है।

तस्वीरों में साफ़ दिख रहा है कि पुलिस ने प्रदर्शन कर रही महिलाओं को भी नहीं बख्शा। पुलिस ने प्रदर्शन कर रही महिला अभ्यर्थियों को भी दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

पुलिस के इस लाठीचार्ज में कई अभ्यर्थियों को गंभीर चोटें आईं हैं। कई अभ्यर्थियों के सिर में चोट लगी है तो कई पुलिस की मार से बोहोश हो गए हैं। बताया जा रहा है कि गंभीर रूप से घायल होने के बाद भी अभ्यर्थी प्रदर्शन कर रहे हैं, वह प्रदर्शन को छोड़कर अस्पताल जाने को राज़ी नहीं हैं।

पुलिस द्वारा महिलाओं को पीटे जाने पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री शिवपाल यादव के पैरोडी ट्विटर अकाउंट से तीखी टिप्पणी की गई है।

पुलिस की बर्बरता की तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा गया, “बेटी लक्ष्मी है. कन्या पूजन करो. दुर्गा है. चंडी है. महिला है. नारी है. नारी शक्ति है. शक्ति का अवतार है. और जब दुर्गा नौकरी माँगे तो रूई की माफिक धुन दो. कसम से इतना फ़र्ज़ी, दोगला,घटिया देश ताउम्र नहीं देखा”।

फोटो साभार-