अब महिलाएं ट्रेनों में भी सुरक्षित नहीं। तिहाड़ जेल की एक महिला कैदी ने दिल्ली पुलिस डीएपी थर्ड बटैलियन के एक जवान पर उससे रे’प करने का आरोप लगाया है।

कथित रे’प की यह घटना 3 अगस्त को नंदन कानन एक्सप्रेस के एक स्लीपर कोच में हुई थी। पीड़िता के मुताबिक, जवान ने इस घटना को उस वक्त अंजाम दिया जब वह मुर्शिदाबाद में अदालत की सुनवाई में हिस्सा लेने के बाद दिल्ली लौट रही थी। घटना के अगले दिन, पीड़िता ने तिहाड़ जेल के डॉक्टर को घटना के बारे में बताया।

पीड़िता का आरोप  है कि डीएपी का जवान रात के वक्त जबर्दस्ती ट्रेन के उस टॉयलट में घुस गया, जिसमें वह फ्रेश होने गई थी। इतना ही नही पीड़ित ने ये भी आरोप लगाया है कि आरोपी ने उसे जान से मारने की धमकी देकर उसके साथ रे’प किया। इस मामले को हरि नगर थाने में जीरो एफआईआर दर्ज कर रेलवे पुलिस को मामला ट्रांसफर कर दिया गया है।

BJP विधायक का घटिया बयान, कहा- अब हर कोई कश्मीर की गोरी लड़कियों से शादी कर सकता है

जानकारी के मुताबिक, महिला कैदी के खिलाफ दिल्ली के भजनपुरा और वेस्ट बंगाल में 2 मामले दर्ज हैं। पश्चिम बंगाल में दर्ज मामले के चलते महिला को 1 अगस्त को वहां कोर्ट में पेश होना था। जिसके लिए उसे डीएपी की दो महिला और एक पुरुष पुलिसकर्मी के साथ ट्रेन से पश्चिम बंगाल भेजा गया था।

पीड़िता ने बताया कि 3-4 अगस्त की देर रात ट्रेन में सब सोए हुए थे। डीएपी वाले से टॉयलट जाने के लिए बोला। पीड़ित महिला कैदी को दो महिला पुलिसकर्मी टॉयलट लेकर गईं। महिला कैदी ने आरोप लगाया है कि टॉइलट के बाहर पहरा दे रहीं दो महिला पुलिसकर्मियों को डीएपी के पुरुष पुलिसकर्मी ने यह कहकर ट्रेन के अंदर जाने के लिए बोल दिया कि वह यहां खड़ा है। वे अंदर जाएं।

आरोप है कि फिर जैसे ही दोनों महिला पुलिसकर्मी अपने कोच में अंदर गईं पुरुष पुलिसकर्मी ने जबर्दस्ती टॉइलट का गेट खोलकर उसे जान से मारने की धमकी देकर उसका रे’प कर दिया।

इसके बाद जब ट्रेन आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर रुकी और महिला कैदी को तिहाड़ जेल ले जाया गया। जहां उसने मामले की शिकायत जेल के अधिकारियों से की। पुलिस के मुताबिक इस मामले में कानूनी कार्यवाही शुरू की गई और जांच जारी है। कुछ मेडिकल रिपोर्ट आनी बाकी है जिसके बाद ही सब कुछ साफ हो पाएगा।