हिंदुत्ववादी संगठन सनातन संस्था ने स्टिंग करने वाले इंडिया टुडे के रिपोर्टरों को जान से मारने की धमकी दी है।

सनातन संस्था ने अपनी आधिकारिक वेबसाईट पर स्टिंग करने वाले इंडिया टुडे के रिपोर्टरों के नाम और तस्वीर शेयर कर अपने समर्थकों से उन्हें मार गिराने की अपील की है।

इस बात की जानकारी इंडिया टुडे ग्रुप के न्यूज़ डाएरेक्टर राहुल कंवल ने एक ट्वीट के ज़रिए दी। उन्होंने कहा, “इंडिया टुडे द्वारा एक्सपोज़ किए जाने के बाद आतंकी संगठन सनातन संस्था हमें धमकियां दे रहा है। अगर इन लोगों को लगता है कि डराने वाली नीति से यह हमें डरा सकते हैं तो इनके दूसरे ख़ुलासे आ रहे हैं”।

दरअसल, इंडिया टुडे ने 2008 महाराष्ट्र बम धमाकों में सनातन संस्था के सदस्यों की संलिप्तता को लेकर एक स्टिंग ऑपरेशन किया था।

जिसमें सनातन संस्था के साधक मंगेश दिनकर निकम और रिभाऊ कृष्ण दिवेकर ने 2008 में महाराष्ट्र के थिएटरों के बाहर हुए बम धमाकों में अपनी भूमिका कबूल की थी। बता दें कि इन दोनों आरोपियों को कोर्ट रिहा कर चुका है।

महाराष्ट्र ATS का खुलासा : सनातन संस्था से जुड़े लोग माहिम दरगाह, गणपति मंडल और माउंट मेरी चर्च में बम धमाके करने वाले थे

बम धमाकों के आरोप में एटीएस ने इन दोनों का नाम चार्जशीट में नामज़द किया था। दोनों साधकों को कोर्ट ने पहले आरोपी बनाया था, फिर बाद में सबूत के अभाव में 2011 में इन्हें रिहा कर दिया गया था। लेकिन अब सात साल बाद कैमरे के सामने इन्होंने खुद अपना जुर्म मान लिया है।

मंगेश दिनकर निकम ने इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम के कैमरे के सामने कहा, “वाशी में था तो सिर्फ रखा और आ गया था। इतना ही रोल था।” निकम ने कैमरे के सामने कबूला है कि 2008 में वाशी में एक सिनेमाहॉल के बाहर उसी ने बम रखा था।

अगर निशांत की जगह कोई मुस्लिम ‘ISI एजेंट’ होता तो अबतक पूरी क़ौम को गद्दार बता दिया जाता

स्‍ट‍िंग में निकम ने ऐसा करने की वजह भी बताई। निकम का कहना है कि वाशी थिएटर में हिंदू देवी-देवताओं की गलत छवि पेश की जा रही थी, इसीलिए उस थिएटर को बंद करवाने के लिए वहां बम प्लांट किया।

निकम ने ये भी कबूल किया कि सनातन संस्था का दूसरा साधक हरिभाऊ कृष्णा दिवेकर भी उसके साथ इस काम में शामिल था।