बीजेपी सांसदों ने वाहवाही बटोरने के लिए थोक के भाव में कई गाँव गोद लिए। मगर उन गाँव के हालत क्या है? ये अब वहां होने वाले विरोध प्रदर्शन से ही पता चलता है।

ताजा मामला दादरी का है जहां केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा के गोद लिए गाँव की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है जिसमें साफ़ साफ़ लिखा गया है कि ‘इस गाँव में बीजेपी वालों का आना सख्त मना है।’

दरअसल दादरी तहसील के गाँव कचहैड़ा समेत आसपास के करीब छह गांवों की जमीन को बिल्डर ने सीधा बैनामा कराकर किसानों से लिया था। किसानों को जमीन अधिग्रहण की शर्तो के मुताबिक मुआवजा और सुविधाएं देने का आश्वासन दिया गया था।

मोदी जापान में भारतीयों को झूठ परोस रहे हैं, विपक्ष के नेताओं को वहां जाकर उनकी पोल खोलनी चाहिए

मगर न अभी किसानों की उनकी ज़मीन मिली और न वो मुआवजा जिसे देने का वादा किया गया बल्कि इस आंदोलन के चलते कई किसान जेल भी गए। अब गाँव वालों ने विरोध करने सहारा एक बोर्ड पर लिखकर पहले ही बता दिया है की गाँव में बीजेपी वालों का आना सख्त मना है।

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा के गोद लिए गांव में लगा बोर्ड

बता दें कि ये कोई पहली बार नहीं जब बीजेपी के खिलाफ ऐसा विरोध हो रहा हो। इससे पहले भी गुजरात चुनाव और यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान कई जगहों पर बीजेपी को आने पर बैन लगा दिया तब भी सोशल मीडिया पर इसे लेकर खूब चर्चा हुई थी।