उत्तर प्रदेश के चुनाव में भाजपा ने रोजगार देने के बड़े बड़े दावे किये। मगर सभी दावे साल भर के अंदर ही सडकों पर दम तोड़ गए नतीजा हुआ ये की जिनकी भर्ती पहले ही हो जानी थी उन्हें रोक दिया गया।

जब उन अभ्यर्थियों ने सडकों पर प्रदर्शन किया तो यूपी पुलिस ने उनपर बर्बरता दिखाते हुए बुरी तरह से दौड़ा-दौड़ाकर पीटा वो भी ऐसे जैसे वो अपराधी हो और हत्या या लूटकर भाग रहें हो।

बीटीसी अभ्यर्थियों पर हुई बर्बरता पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने योगी सरकार की इस बर्बरता की निंदा की और सोशल मीडिया पर लिखा-

योगी जी, इन नौजवानों का कसूर सिर्फ इतना है कि, इन्हें ‘पकौड़े’ बेचना गवारा नहीं है : सपा नेता

वादा था 2 करोड़ रोजगार का, मगर UP में 68,500 सहायक शिक्षकों की भर्ती सही से कराए जाने की माँग कर रहे युवाओं के साथ योगी सरकार का बर्ताव देखिए।

उन्होंने कहा कि जो बच्चों का भविष्य बनाते हैं उनके भविष्य पर ऐसी मार? कांग्रेस उत्तर प्रदेश के शिक्षक अभ्यर्थियों के साथ है। युवा इसका जल्द जवाब देंगे।

बता दें कि प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थी बीटीसी की इस शिक्षक भर्ती में मेरिट को घटाकर 30 से 33 प्रतिशत करने की मांग कर रहे हैं, जो कि 40 से 45 प्रतिशत रखी गई है। अपनी इसी मांग को लेकर शुक्रवार को बड़ी तादाद में अभ्यर्थियों ने विधानसभा का घेराव किया।

जबतक आप मंदिर-मस्जिद के पीछे भागते रहेंगे तबतक आपके बच्चे रोजगार के लिए खून बहाते रहेंगे

घेराव के बाद अभ्यर्थी राज्य की योगी सरकार के खिलाफ़ नारेबाज़ी करने लगे। जिसपर योगी की पुलिस भड़क गई और अभ्यर्थियों को खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज शुरु कर दिया।

इस दौरान पुलिस ने कई अभ्यर्थियों को घसीट-घसीट कर पीटा। पुलिस के इस लाठीचार्ज की कई तस्वीरें भी सामने आई हैं। जिसमें अभ्यर्थियों पर पुलिस की बर्बरता को साफ़ तौर पर देखा जा सकता है।